राजकोट-जेतलसर खंड पर पहली बार ट्रायल रन इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव  के  साथ पीसीईई का निरीक्षण पूरा हुआ

 

भारतीय रेलवे के 100% विद्युतीकरण की निरंतरता में, रेलवे विद्युतीकरण के लिए केंद्रीय संगठन (कोर) के तहत अहमदाबाद इकाई के रेलवे विद्युतीकरण मंडल ने राजकोट एवम भावनगर मंडल का राजकोट-जेतलसर खंड (RKM : 74.567, TKM : 84.322) को चालू करके एक और उपलब्धि हासिल की है। रेलवे विद्युतीकरण के मुख्य परियोजना निदेशक/अहमदाबाद-अहमदाबाद श्री ए के सिंह के नेतृत्व और मार्गदर्शन में, नए विद्युतीकृत खंड में गुड्स एंड पैसेंजर ट्रेन के उद्घाटन के लिए आवश्यक सफल पीसीईई निरीक्षण के बाद उत्कृष्ट कार्य हासिल किया गया है। श्री एके जैन, डीआरएम/राजकोट और श्री मनोज गोयल डीआरएम/भावनगर के संग राजकोट और भावनगर मंडल के शाखा अधिकारियों के साथ एक अनिवार्य निरीक्षण किया गया।

 

PCEE/WR को सेक्शन की पेशकश करने से पहले, सेक्शनल स्पीड पर इलेक्ट्रिक लोको का ट्रायल सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है। PCEE/WR श्री जी एस भवरिया ने 25.01.23 को 74.567 RKM और 84.322 TKM की अनुभागीय लंबाई वाले राजकोट – जेतलसर मंडल  अंतर्गत प्रोजेक्ट EPC-12 खंड का निरीक्षण किया और तकनीकी पहलू और OHE सिस्टम की सुरक्षा, विश्वसनीयता में सुधार के लिए सलाह दी ।

राजकोट-वांकानेर का विद्युतीकरण जोरों पर है और निरीक्षण की पेशकश के लिए जल्द ही पूरा होने की उम्मीद है। यह विद्युतीकृत खंड इलेक्ट्रिक ट्रैक्शन के साथ तेज और बेहतर ट्रेन सेवा प्रदान करेगा, जो भारतीय रेलवे पर एक नवीनतम हरित पहल के रूप में ग्रीन इंडिया के महत्वाकांक्षी मिशन को भी बढ़ावा देगा । रेलवे विद्युतीकरण के शीघ्र पूरा होने का लाभ बहुत प्रभावशाली है जो डीजल लोकोमोटिव की निर्भरता को कम करके कार्बन फुटप्रिंट को कम करेगा और जो ईंधन के आयात के कारण वित्तीय बोझ को कम करने में भारत का समर्थन करेगा ।

 

Comments
Loading...
WhatsApp chat